रविवार, 15 सितंबर 2013

तो एपी सिंह ने गलत क्या कहा

हम भारतीयों में तमाम अच्छाइय़ां हैं. लेकिन दो चीजे ऐसी हैं, जो हमारी तमाम अच्छाइयों पर मेरिट पर भारी पड़ जाती हैं। पहली हम पाखंडी हैं। दूसरी हम स्वार्थी हैं। पाखंड और स्वार्थ हममें कूट कूट कर भरा हुआ है. दिल्ली रेपकेस के दोषियों को फांसी की सजा हुई. नहीं होनी चाहिए थी.उन्होंने रेप किया था. रेप के लिए आजीवन कारावास की सजा होनी चाहिए थी। जिस हरामजादे ने उसके शरीर में सरिया डालते हुए कहा-ले साली मर और बस से बाहर फेंका फांसी उसे होनी चाहिए थी. जिसे तीन साल की सजा दी गई. क्योंकि उसके स्कूल के कक्षा चार तक रिकॉर्ड के मुताबिक उस दिन तक उसके बालिग होने में तीन महीने बाकी थे। स्कूल का सर्टिफिकेट सही था या नहीं इसके लिए उसकी मेडिकल जांच भी नहीं कराई गई। नवीनतम चिकित्सा तकनीकों से पता चल सकता है कि वह बालिग था या नहीं. लेकिन अदालत ने ऐसा नहीं किया. क्यों. उसे नाबालिग मान लिया. सीधी सी बात है जो व्यक्ति बलात्कार कर सकता हो वीभत्स तरीके से हत्या कर सकता हो. वह नाबालिग कैसे हो सकते है. इस फैसले के खिलाफ कोई हंगामा नहीं हुआ. और तो और अब वह बालिग हो चुका है इसलिए सुधार गृह में भी नहीं रखा जाएगा. उसे घर पर कैद रखा जाएगा. इसपर कोई बहस नहीं हुई. इसके खिलाफ आवाज उठाई डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने। लेकिन जब दो आरोपियों के वकील ने जज के फैसले पर प्रतिक्रिया कि आपने मीडिया और राजनीति के दबाव में फांसी का फैसला दिया है तो हंगामा हो गया. वकील एपी सिंह को सब गालियां देने लगें। बुरा बताने लगे.क्यों. मैं यह नहीं कहता कि यह फैसला राजनीतिक दबाव में लिया गया. लेकिन यह दावे के साथ कहता हूं कि सबसे वीभत्स अपराधी का फैसला राजनीतिक दबाव में लिया गया। आप सोचें. देश का सेनानायक अपनी जन्मतिथि के प्रमाण में हाईस्कूल का सर्टिफिकेट पेश करता है तो उसे अदालत नहीं मानती। एक बलात्कारी और हत्यारे के कक्षा चार की जन्मतिथि मान लेती है। हद है। यह न्याय नहीं पाखंड है। न्याय तो यहां खंड खंड है। अब अगली बात एपी सिंह ने कहा कि मैं अपनी बेटी को विवाह से पहले रात रात भर घर से बाहर ब्यावफ्रेंड के साथ घूमने की इजाजत नहीं दूंगा। देह संबंध बनाने की इजाजत नहीं दूंगा और ऐसा करेगी तो उसे जिंदा जला दूंगा। उन्होंने जिंदा जलाने की बात गलत कही। क्रोध में कही। यह भी देखा जाना चाहिए. लेकिन सब पिल पड़े उनपर. जो उन्हें गरिया रहे हैं. दरअसल, वे सब पाखंडी हैं. अगर नहीं तो कहें कि मैं अपनी बेटी को विवाह पूर्व देह संबंध बनाने की इजाजत दूंगा. और अगर उसका ब्वायफ्रेंड कन्डोम का इस्तेमाल भूल गया या वह आईपिल समय पर नहीं ले पाई तो उसके बच्चे का नाना बाखुशी बनूंगा। अब तक तो किसी ने ऐसा नहीं कहा.कोई कहेगा भी नहीं.अगर कोई युवक या युवती यह कहता है कि वे सिर्फ दोस्त हैं तो वे झूठ बोलते हैं। दोस्ती का कोई रिश्ता नहीं होता। जब दो पुरुष दोस्त होते हैं तो उनके बीच भाई का रिश्ता होता है। वे एक दूसरे के बच्चों के उम्र के मुताबिक चाचा ताऊ होते हैं। भाई में और भाई रूपी दोस्त में सिर्फ एक फर्क होता है। हम अपने से बड़े भाई के साथ बहुत सारी बातें नहीं सांझा करते हें। लेकिन दोस्त रूपी भाई के साथ हर बात साझा कर लेते हैं। घर की दफ्तर की बिस्तर की। इसलिए दोस्ती का रिश्ते भाई के रिश्ते से भी ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है। यही बात स्त्रियों में है। वे अपनी सहेली रूपी बहन से हर बात साझा कर लेती हैं, जो बड़ी या छोटी बहन से नहीं कर सकतीं। सो दुनिया में किसी सत्री और पुरुष का रिश्ता दोस्त का नहीं हो सकता। भाई बहन, बाप बेटी, बेटा मां या पति पत्नी/प्रेयसी का ही हो सकता है। सो ब्वायफ्रेंड केवल और केवल प्रेमी होते हैं। जिनके कई होते हैं ब्वाय फ्रेंड या गर्लफ्रेंड होते हैं वे प्रेमी प्रेमिका भी नहीं होते। सिर्फ और सिर्फ विपरीत लिंग के आकर्षण में बिंधे ऐसे युवक युवती होते हैं जो एक दूसरे की देह को ब्रेल लिपि में पढ़ने का आनंद लेने के लिए जुड़े होते हैं। अगर आप कुंवारे/कुंवारी हैं और आप को कोई युवक/युवती पसंद है तो उससे प्रेम करने में कोई बुराई नहीं है. लेकिन विवाह से पहले देह संबंध बनाने में कोई बुराई नहीं लेकिन यह तय हो कि विवाह होगा ही। हालांकि बेहतर यही होगा कि विवाह पूर्व इससे बचा जाए। अपने प्रगतिशील मानने वाली कितनी युवतियां शादी के बाद अपने पति से स्वीकार कर सकती हैं कि उनके कई लोगों से देह संबंध रहे हैं। कोई नहीं तब सब पाखंड करती हैं कि आप मेरी जिंदगी में आऩे वाले पहले पुरुष हो या पहली महिला। हां कुछ तथाकथित हाई सोसायटी वाले लोगों की बात दूसरी है। मसलन भाजपा की हेमामालिनी की और वामपंथी शबाना आजमी जैसे इसके कई उदाहरण हैं, जिन्होंने नारी स्वतंत्रता की वकालत करते हुए अपने पतियों की पूर्व पत्नियों के हक पर डाका डाला। स्मृति ईरानी ने तो अपनी सहेली के पति को छीन लिया। अब ऐसे लोग नारी स्वतंत्रता की वकालत करें तो वह पाखंड नहीं तो और क्या है. एक समय मैं भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता हुआ करता था। रेखांकित कर लें कि संघ का स्वयंसेवक अब भी हूं। शाखा पर भले न जाता हूं। इसलिए नहीं जाता कि अखबार की नौकरी में जाने का मौका नहीं मिलता। सुबह जब शाखा लगने का समय होता है तो मेरे सोने जाने का समय होता है और सायं शाखा जाने का समय होता है तो दफ्तर जाने का। अपने दक्षिणपंथी होने को मैं गर्व से स्वीकार करता हूं। हिंदू होने का मुझे अभिमान है। और ब्राह्मण कुल में पैदा होने के कारण समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को निभाने का बोध भी। लेकिन मैं जब अपने दफ्तर में होता हूं। खबरों पर काम कर रहा होता हूं तो मैं सिर्फ और सिर्फ पत्रकार होता हूं। और खबरों से न्याय हो इसके लिए सचेत रहता हूं। वाममार्गियों सॉरी वामपंथियों की तरह अपने विरोधियों को कमतर दिखाने के लिए उनमें घालमेल नहीं करता। भाजपाई गलत हैं तो उनके खिलाफ भी लिखता हूं और वामपंथी गलत हैं तो उनके खिलाफ भी। मैं आडवाणी को बिलकुल पसंद नहीं करता जिन्होंने 39 की उम्र में अपने से 17 साल छोटी युवती से शादी की. में कम्युनिस्ट नेता श्रीपाद अमृतपाद डांगे को प्रणाम करता हूं जिन्होंने समवयस्क विधवा से विवाह किया। क्योंकि मैं पाखंडी नहीं हूं। स्वार्थी नहीं हूं। आज आसाराम को गरियाने वाले इंडिया न्यूज के लोग मनु शर्मा को क्यों भूल गए। इसी बहाने उनको भी याद कर लेते जिन्होंने जेसिका लाल की गोली मार कर हत्या कर दी थी। फिर किस तरह उनके पिता ने जो हरियाणा के कांग्रेस के कद्दावर नेता और बड़े उद्योगपति हैं उन्होंने उनको बचाने के लिए गवाहों को खरीदा। अजीत अंजुम जी एपी सिंह को अपने चैनल पर घेर रहे हैं। उनके विरोध में फेसबुक पर लिख रहे हैं। पर उनका ही चैनल है जो फ्रॉड निर्मल बाबा का कार्यक्रम फिर से प्रसारित कर रहा है। पैसे लेकर। मतलब आप नैतिकता की बात करेंगे और पैसे लेकर फ्रॉड का प्रचार करेंगे। आप से अच्छे एपी सिंह हैं जिनमें सच कहने का साहस है। जो बात एपी सिंह ने कही है वह बात देश के हर एक हजार में से 990 पिता सोचता है पर कहेगा नहीं। जो दस फीसदी कहेंगे उनमे भी ज्यादातर वे लोग होंगे जिनकी बेटियां परंपरागत रूप से धंधा करती हैं और देश में ऐसे सैकड़ों गांव हैं।

1 टिप्पणी:

  1. हृदय-स्‍पर्शी
    सहमति अथवा असहमति का प्रश्‍न नहीं है, लेकिन सवालों की बौछार-झड़ी लगा दी आपने।
    कुमार सौवीर
    लखनऊ
    9415302520
    kumarsauvir@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं